सफर।


रफ्ता रफ्ता काट रहा था, लम्हो में जीते हुए (२), अल्फाज़ो में बयान न होगा यह कारवां। इन् मुस्क़ुरते हुए चेहरों को देखकर, कौन कहेगा की मुकम्मल सफर न था। तिनका तिनका चुन चुन के(२), अपने कुछ सपनो को पिरोया है, इन् रोशन जहान को देखकर, कौन कहेगा की कश्मकश में सफर न था। उलझी…

Apna banaya tha jisse…


Guzarte har lamho ke saath, Tere yaade dhudli se horahi hai, Kya tu wahi hai jo deewana sa tha, Maine apna banaya tha jisse... Chehre badalne lage hai ab, Tere kuch baate yaad aa rahi hai, Jiske dil ke har kone me main thi, Kya tu wahi hai, maine apna banaya tha jisse... Har ehsaas…